Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

माँ गूँजने दो मेरी भी किलकारी

माँ तेरी बगिया की
हूँ नाजुक सी कली
क्यों चढ़ाती हो
बार-बार मेरी ही बलि
बेटों को हमेशा तूने
मुझसे ज्यादा ही चाहा
पढ़ाया -लिखाया,
सर पर खूब चढ़ाया
मुझे दिलाती रही
बेटी होने का सदा ही भान
मैंने रखा फिर भी
हरदम ही सबका मान
संस्कारों में पली
फिर भी गई हरबार छली
मेरी मासूम हँसी सदैव
तूने कर दिया बेटों पे कुर्बान
मैं फिर भी न जली, सदा खुश रही
शिक्षा का दिया न अधिकार मुझे
फिर भी छुप -छुपा के आगे बढ़ती रही
तेरा नाम किया जग में उजागर
माँ फिर भी हुई मैं पराई
जल्दी से तूने कर दी मेरी विदाई
जब पढ़ -लिख बेटा गया विदेश
न चिट्ठी न भेजा कोई संदेश
तेरी पथराई आँखें
बाट रही निहार
सुन के तेरी करूण-पुकार
मैं दौड़ी आई माँ तेरे द्वार
माँ फिर भी मैं बोझ ही बनी
जननी होकर भी जननी को छली
उड़ने न दिया उनमुकत गगन में
छूने न दिया चाँद-तारों को
मैंने फिर भी रचा इतिहास
अपने कर्मों से भाग्य बदलती रही
जितना भी रोका कदम
पथ के रोड़ों से लड़ती गई
मैं खुद सँवरती गई
डगमगाने न दिया
अपने आत्मविश्वास को
नया सबेरा लाकर रही
हर युग में, हर जन्म में
कंधे से कंधा मिलाकर चली
मेरे बिना तो राम भी कहाँ था पूरा?
कभी बनकर लक्ष्मी बाई
अंग्रेजों के दाँत खट्टे किए
छूने न दिया आबरू को
जब न दिखा सकी ताकत अपनी
कर लिया जौहर व्रत
स्वाभिमान से जिया , स्वाभिमान से मरी
माँ मैं तो हूँ बस तेरी ही छवि
चमकने दो मुझे
ज्यों गगन में चमक रहा रवि
मैं कल भी थी,
आज भी हूँ
और कल भी रहूँगी
चाहे जितना भी चाहो
मिटाना मेरी पहचान
सृष्टि की अनमोल उपहार हूँ
होऊँगी न बेकार
माँ मुझपर कर दो इतना उपकार
कर लो मुझे तुम स्वीकार
दे दो मुझे भी मेरे हिस्से का प्यार
बना लो अपनी दुनिया को
बेटियों की खुशी से हसीन
क्यों होती है तू गमगीन?
मैं अबला नहीं हूँ सबला
दूर कर दूँगी तेरी परेशानियाँ सारी
महकाऊँगी घर -आँगन तेरी
बस माँ गूँजने दो मेरी भी किलकारी
हाँ माँ गूँजने दो मेरी भी किलकारी ।

4019 Views
You may also like:
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
अपना भारत देश महान है।
Taj Mohammad
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr. Alpa H. Amin
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
Nature's beauty
Aditya Prakash
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आदर्श पिता
Sahil
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
बहुत अच्छा लगता है ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
की बात
AJAY PRASAD
Loading...