Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2018 · 1 min read

“ माँ गंगा ”

गंगा कल-कल करती जाती अविचल ,
मन है जिसका चंचल, हृदय स्वच्छ निर्मल ,
बह जाते जिसमें सारे के सारे दावानल ,
फिर भी जल है जिसका रहता शुभ मंगल I

फुदक-फुदक कर सन्देश दे प्रतिछण ,
बढ़ते जाओ खुद को बनाओ विलछण ,
जीवन में तभी तुम बनोगे कर्मठ-सबल,
मुझसे दूषित भी मिलकर बन जाते गंगाजल I

“माँ गंगा” का एक सन्देश :

मेरे आँगन में सब है जैसे एक थाल समान ,
खुद को ऐसा संवारो कोई न कर सके सवाल ,
सबको बता दो, जग में तुम हो एक बेमिसाल ,
“इंसानियत” से बढ़कर नहीं कोई धर्म मेरे लाल I

तेरे घर-आँगन में खेलता “राज ” हर पल ,
तुम ही बढ़ाती जाती हमेशा इसका मनोबल,
मन में उमंग, संघर्ष शीलता तुम्हारा तपोबल ,
सदियों तक रहोगी तुम, शुभ-मंगल गंगा जल I

गंगा कल-कल करती जाती अविचल ,
एक रहने की सीख बताती जाती प्रतिपल I

देशराज “राज”कानपुर

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Likes · 53 Comments · 466 Views
You may also like:
हमसफ़र
N.ksahu0007@writer
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
जो ये खेल
मानक लाल"मनु"
हमारी बस्ती की पहचान तथागत बुद्ध के नाम
Anil Kumar
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Sahityapedia
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी राहों में ख़ार
Dr fauzia Naseem shad
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां के आंचल
Nitu Sah
👁️✍️वाह-वाह तुम्हारे आँख का काजल✍️👁️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ सामयिक आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद
Sushil chauhan
मशगूलियत।
Taj Mohammad
"मायका और ससुराल"
Dr Meenu Poonia
भारत का भविष्य
Shekhar Chandra Mitra
अब न पछताओगी तुम हमसे मिलके
Ram Krishan Rastogi
शौक मर गए सब !
ओनिका सेतिया 'अनु '
* गाथा अग्रोहा अग्रसेन महाराज की (गीत)*
Ravi Prakash
भाभी जी आ जाएगा
Ashwani Kumar Jaiswal
मूकदर्शक
Shyam Sundar Subramanian
कला
Saraswati Bajpai
✍️बेपनाह✍️
'अशांत' शेखर
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
Loading...