Aug 31, 2016 · 1 min read

माँ की याद

तेरी यादों की छाओं में,
मै सोया भी करता था।
तेरे आंचल में अपने आंसू,
मै धोया भी करता था।
तेरी उन लोरियों को मां,
बहुत अब याद करता हूं।
बस उन्हीं को याद कर,
रात-दिन फरियाद करता हूं ।
तेरी उन रोटियों को बस अब,
ख्वाबों में ही खाता हूं।
कभी-कभी तेरी याद में मां,
मै भूखा ही सो जाता हूं ।
जब तक मै तेरे पास था,
तेरी गोद में सोता था।
अपने हर आसुओं को मां,
तेरे से ही रोता था।
तब मेरा दर्द सुनकर मां,
तू नाखुश हो जाती थी।
और मेरे रोने पर तू,
बहुत भावुक हो जाती थी।
जीवन में कुछ करने का मां,
मै सपना बनाया हूं।
आज इसलिये तुझे छोड़ कर ,
मैं तुझसे दूर आया हूं।
तेरे बिन दूर मां अब मै,
यहां रह नहीं सकता।
तेरे से दूर रहने का दर्द,
ज़रा भी सह नहीं सकता।
कसम तेरी है मेरी मां,
मै वो सपने करूगा पूरा।
किया वायदा था जो तुझसे,
रह गया था जो अधूरा।
-© प्रियांशु कुशवाहा,
सतना,(म.प्र.)
मो. 9981153574

1 Like · 4 Comments · 943 Views
You may also like:
आ जाओ राम।
Anamika Singh
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
नमन!
Shriyansh Gupta
Loading...