Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2022 · 2 min read

माँ की याद

” माँ की याद ”

तुमसे मिली सांसें तुमसे मिला जीवन
तुमसे ही सब रिश्ते तुमसे जुड़ा ये मन,
जिंदगी में जो खुशीयों की है ये बहार
आशीर्वाद है तेरा ये तेरा है प्यार |

न जाने कहाँ तू चली गई माँ
छोटी छोटी बातों पर जिद्द करने वाली,
आज अकेले में रोना सीख गई
देख माँ तेरी बेटी अब बड़ी हो गई |

माँ एक बार पुकारने पर तू दौडी चली आती थी
आज इतना बुलाने पर क्यों नहीं आती है,
बिते पलो की यादें रूला जाती है
क्या तूझे हमारी याद नहीं आती है |

दुनिया तो देती है ठोकर हर दम
एक तेरी ही गोदी में झूले थे हम,
वो लोरी तेरी सुनके सोते थे हम
तेरे होने से न होता था कोई गम |

आपस में लडते थे जो हम भाई बहन
तू समझाती थी रहो सब मिल जुलकर,
दुख अपने हमको न बताती थी तू
देखकर हमको मुस्कुराती थी |

भूखा हमको कभी न सोने दिया
न हमको कभी रोने दिया,
खाली पेट सो जाति थी माँ
खुशीयों के बिज बो जाती थी तू |

हमारे बीमार हो जाने पर तू घबरा जाती थी
पूरी रात जागकर सीरपे भीगी पट्टी रखती थी,
आज देख माँ तेरे सारे बच्चे फिरसे बिमार है
फिरसे सरपे हाथ रखदे देख तेरे बच्चे बेहाल है |

थक हार के जब शाम को वापस आता हूँ
पापा को भीगी पलकों से शांत बैठे पाता हूँ,
पूरे घर में बस तेरी कमी खलती है
हो सके तो लौट आ माँ तेरी याद रूलाती है |

लेट घर जाता हूँ तो लगता है अभी सिर पर हाथ फिराएगी देख के अपने बच्चों को मुस्कुराएगी,
मगर तू तो ख्यालों से बाहर ही नहीं आती माँ
अपने बच्चों को तू अब क्यों नहीं बुलाती माँ |

माँ हम कभी न रूठेंगे तुमसे, तू रूठी तो तुझे मनाएंगे
दूर तुमसे न हम रह पाएंगे, पलकों पर ये आंसू हमारे हैं,
तू आके इन्हें हटा जाना, अब नींद नहीं आती आंखों में
तू आकर सूला जाना, एक लोरी तो सूना जाना |

अब क्यों नहीं डांटती हमको
न ही प्यार से बुलाती है,
क्यों इतना दूर गई हमसे
तेरी याद रूलाती है |

धन्यवाद🙏

Language: Hindi
Tag: कविता
27 Likes · 51 Comments · 660 Views
You may also like:
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
#करवा चौथ#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
!! सांसें थमी सी !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
ऐसे काम काय करत हो
मानक लाल"मनु"
बढ़ेगा फिर तो तेरा क़द
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ एक शेर
*प्रणय प्रभात*
*आतिशबाजी का कचरा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अब हार भी हारेगा।
Chaurasia Kundan
जाड़े की दस्तक को सुनकर
Dr Archana Gupta
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
कैसे कह दूँ
Dr fauzia Naseem shad
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
प्रेमी और प्रेमिका की मोबाइल पर वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
बेटियां।
Taj Mohammad
महक कहां बचती है
Kaur Surinder
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अवामी शायर
Shekhar Chandra Mitra
यहाँ सब बहर में हैं
सूर्यकांत द्विवेदी
-- मृत्यु जबकि अटल है --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
गणपति स्वागत है
Dr. Sunita Singh
✍️जगात कोटि कोटिचा मान असते✍️
'अशांत' शेखर
प्रेम का फिर कष्ट क्यों यह, पर्वतों सा लग रहा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रेम गीत पर नृत्य करें सब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लोकतंत्र की पहचान
Buddha Prakash
मौसम की गर्मी
Seema 'Tu hai na'
तुलसी महिमा
लक्ष्मी सिंह
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
* काल क्रिया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...