Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
Jun 17, 2022 · 2 min read

माँ का प्यार

माँ बताओ न तुम इतना
प्यार कहाँ से लाती हो
और हम सब पर तुम
इतना प्यार कैसे बरसाती हो ।

माँ बताओं न तुम मुझको
यह कैसे कर पाती हो।

माँ बताओं न तुम इतना
त्याग कहाँ से लाती हो
और खुद भुखे रह कर भी
कैसे औरो को खिलाती हो|

माँ बताओं न तुम मुझको
कैसे तुम सह जाती हो।

माँ अपना दर्द भुलाकर कैसे,
औरो का दर्द अपना लेती हो।
तुम अपने अन्दर इतना करुणा ,
दया कहाँ से लाती हो |

माँ बताओं न तुम अपने
क्रोध पर विजय कैसे पाती हो|

बिना कहे कैसे तुम माँ
हर बात मेरी समझ जाती हो।
कैसे मेरे हर प्रश्नों का,
उत्तर हँस कर दे देती हो|

माँ बताओं न तुम इतना
यह सब कैसे कर लेती हो |

माँ दिन रात कैसे
तुम काम कर लेती हो,
और बिना आराम किये माँ
तुम कैसे रह लेती हो।

इतना थक जाने पर भी माँ
चेहरे पर हँसी कैसे लाती हो |

माँ बताओं न तुम इतना ,
क्या तुम कोई परी हो,
और क्या तेरे हाथों में
कोई जादू की छड़ी है।

माँ बताओं न तुम इतना
क्या तुम कोई जादूगरनी हो |

माँ मुझको इतना बताओं
क्या तेरी छवी की कोई छवी है ।
दिल का हाल समझ ले मेरा
क्या कोई ऐसी भी लड़ी है |

माँ बताओं न तुम मुझे
चुप क्यों खड़ी हो |

मुझको तो लगता है माँ
तेरी छवी जैसी कोई छवी नहीं है,
और तेरे जैसे प्यार करने वाली
इस संसार में कही नहीं हैं।

इसलिए ईश्वर ने भी
तुमको माँ कहाँ है,
और तेरे कोख से जन्म लेकर
ममता का रस चखा है |

मुझको तो लगता है माँ
तेरी जैसी कोई मूरत ,
इस संसार में बनी नहीं है |
इस संसार में कहीं नहीं है।

– अनामिका

5 Likes · 8 Comments · 121 Views
You may also like:
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
वफा और बेवफा
Anamika Singh
✍️ये सफर मेरा...✍️
'अशांत' शेखर
भोरे
spshukla09179
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
दौलत देती सोहरत
AMRESH KUMAR VERMA
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
गज़ल
Saraswati Bajpai
✍️स्त्रोत✍️
'अशांत' शेखर
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
'अशांत' शेखर
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
यादें
Anamika Singh
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
दोस्ती का हर दिन ही
Dr fauzia Naseem shad
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
'पूर्णिमा' (सूर घनाक्षरी)
Godambari Negi
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
दौर।
Taj Mohammad
Loading...