Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 15, 2019 · 1 min read

माँ एक लेख,सारी दुनिया ले देख

माँ पर लिखना इतना सहज और सरल नहीं है
जितना हम सोच लेते हैं
क्योंकि माँ शब्द को शब्दों के व्याकरण में तो बांधा जा सकता है
लेकिन माँ शब्द की भावना का मूल्यांकन
शब्दकोश के सीमित शब्दों से अभिव्यक्त ही नहीं किया जा सकता है
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का आप सदुपयोग निःसंदेह कर सकते हैं
पर किसी शब्द से दूसरे शब्द का कदापि नहीं
तो क्या माँ पर लिखना निरर्थक है
नहीं, जी बिल्कुल नहीं
यह कार्य केवल सूर्य को दीपक दिखाने के समान है
बहुत ही तुच्छ प्रयास
किंचित मात्र
यथार्थ तो ये है कि
आज तक कोई ऐसा व्यक्ति ही पैदा नहीं हुआ है
जो माँ की सर्वाधिक उपयुक्त परिभाषा प्रदान कर सके
माँ के स्वरूप का पूर्ण उल्लेख या वर्णन कर सके
विभिन्न कलमकारों का प्रयत्न मात्र
खण्डकाव्य है, महाकाव्य नहीं
और सभी इसी धर्म का अनुपालन करते हैं
मैं स्वयं भी
हो सकता है आपका मत भिन्न हो
पर भावना अभिन्न नहीं है
माँ की जय हो
माँ हो तो जय हो
माँ को नमन है, माँ को वंदन है
इस प्रकाशहीन आदित्य का
माँ को हृदय से अभिनंदन है।

पूर्णतः मौलिक स्वरचित लेख
आदित्य कुमार भारती
टेंगनमाड़ा, बिलासपुर, छ.ग.

3 Likes · 224 Views
You may also like:
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
कुछ शेर रफी के नाम ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️कुछ राज थे✍️
'अशांत' शेखर
योग करो।
Vijaykumar Gundal
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
माँ गंगा
Anamika Singh
तमन्ना अनूप
Dr.sima
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
Loading...