Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 12, 2022 · 1 min read

महिला काव्य

महिला ही इस खलक की
सदा से ही है जगत जननी
कामिनी के बिन यह संसार
ना बढ़ सकता अग्र कभी ।

महिलाओं को पूर्ण रूप से
सरकारें भी करती समन्वय
आज रमणियां इस भव में
छूटी बड़ी- बड़ी शिखरों को ।

बहन, माता हो या कोई महिला
यही हमारे इस जगत की जाया
सदा करे हम सब इनका ख्याति
यही हम सब मनुजों का मूल कर्म ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

1 Like · 291 Views
You may also like:
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
समझता नहीं कोई
Dr fauzia Naseem shad
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
# दिल्ली होगा कब्जे में .....
Chinta netam " मन "
✍️हमउम्र✍️
'अशांत' शेखर
शामिल इबादतो में
Dr fauzia Naseem shad
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
तुझसे रूबरू होकर,
Vaishnavi Gupta
मृत्युलोक में मोक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे पापा
Anamika Singh
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
प्रयोजन
Shiva Awasthi
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr.Alpa Amin
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
रामलीला
VINOD KUMAR CHAUHAN
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
मैं तुमको याद आऊंगा।
Taj Mohammad
अपने दिल को।
Taj Mohammad
पसन्द
Seema Tuhaina
झूठे गुरुर में जीते हैं।
Taj Mohammad
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
Loading...