Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author
Jun 25, 2022 · 1 min read

महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन

बिछड़ रहे है सभी साथी धीरे धीरे।
बढ़ रहा शनि का प्रकोप धीरे धीरे।।

बदलेगी स्थिति महाराष्ट्र की धीरे धीरे।
सत्ता छोड़नी पड़ेगी,पर जरा धीरे धीरे।।

परिवर्तन आ रहा है,पर जरा धीरे धीरे।
सेना भाजपा से मिलेगी,पर धीरे धीरे।।

सत्ता सांस ले रही है,अभी धीरे धीरे।
प्राण तो निकलेंगे,पर जरा धीरे धीरे।।

उद्धव सेनापति है,पर सेना जा रही धीरे धीरे।
शिंदे के पास सेना है,सत्ता आयेगी धीरे धीरे।।

महाराष्ट्र बनाएगा हिंदुराष्ट्र,देखोगे धीरे धीरे।
एक हो जाओ सब हिंदू पछताओगे धीरे धीरे।।

रस्तोगी चला रहा है अपनी कलम धीरे धीरे।
उसका लिखा सच होगा,पर जरा धीरे धीरे।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

5 Likes · 9 Comments · 202 Views
You may also like:
आईना
Buddha Prakash
खानाबदोश ज़िंदगी
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई ना मुश्किल-कुशा मिल रहा है।
Taj Mohammad
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुहब्बत क्या है
shabina. Naaz
"मायका और ससुराल"
Dr Meenu Poonia
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पैरो तले ज़मी✍️
'अशांत' शेखर
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
आयेगी मौत तो
Dr fauzia Naseem shad
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
'शान उनकी'
Godambari Negi
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
शेर
dks.lhp
उन्हें क्या पता।
Taj Mohammad
दर्द की कलम।
Taj Mohammad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
पत्थरबाज
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
'अशांत' शेखर
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Loading...