Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#24 Trending Author
Oct 1, 2016 · 2 min read

महाराजा अग्रसेन जी

अग्रसेन जी महाराज का द्वापर युग मे जन्म हुआ
राम राज्य के पदचिन्हों पर इनका हर इककदम हुआ

यज्ञ में पशु बलि देखकर मन मे उनके क्षोभ हुआ
पशु बलि को तभी उन्होंने यज्ञ में करना रोक दिया

धर्म क्षत्रिय त्याग उन्होंने वैश्य धर्म को अपनाया
लक्ष्मी माँ का पूजन करके धाम अग्रोहा बसवाया

महाभारत के युद्ध मे भी दिया पांडवों का ही साथ
सात फेरों से थाम लिया नागराज पुत्री का हाथ

एक रूपए और एक ईंट का दिया उन्होंने नारा था
हम सब एक बराबर कहकर सबको दिया सहारा था

पुत्र अठारह थे उनके जिनसे कुछ संकल्प कराये
ऋषि मुनियों से इसी लिए उन्होंने यज्ञ आदि करवाये

कर्मों के अनुरूप उन्हीं से गोत्र अठारह बनवाये
अर्थ उपार्जन के भी उनको रस्ते नये नए बतलाये

दयालुता और न्यायप्रियता के गुण थे उनमे भरपूर
कर्मठता और क्रियाशीलता का मुख पर दिखता था नूर

इतिहास रचा उन्होंने अपनी अलग बनाई थी पहचान
मान मिला जग में उनको सबने माना जैसे भगवान

गर्ग, गोयल ,गोइन ,बंसल, कंसल, सिंघल ,धारण, मंदल
तिंगल ,ऐरन, जिंदल, मंगल, नांदल, बिंदल ,मित्तल, भंदल,

मधुकुल, कुच्छल सभी यहां पर रहें प्यार से मिलजुलकर
नाम गोत्र अठारह के ये दिए उन्होंने बहुत ही सुंदर

इन सबके मिलकर रहने से अग्र समाज में मंगल हैं
और हमारे ही भारत का बहुत सुनहरा हर कल हैं

अश्विन शुक्ल की प्रतिप्रदा को इनकी ही जयंती मनाते हैं
भव्य भव्य आयोजन करके पूजा पाठ करवाते हैं

अग्रवाल होने का हमको गर्व बहुत है अपने पर
अग्रसेन के आदर्शों पर हम दिखलायेंगें चलकर

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उप्र)

1 Like · 1 Comment · 1248 Views
You may also like:
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
हिसाब मोहब्बत का।
Taj Mohammad
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️माटी का है मनुष्य✍️
"अशांत" शेखर
✍️दिल ही बेईमान था✍️
"अशांत" शेखर
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
शेर राजा
Buddha Prakash
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
"अशांत" शेखर
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
दुआ
Alok Saxena
Loading...