Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 1 min read

महाप्रयाण

माया , आसक्ति , काम, क्रोध ,लोभ, अहंकार सब मानव निर्मित बंधन है ,
परोपकार , प्राणी मात्र से प्रेम, आत्मज्ञान , संवेदना , निर्विकार भाव, सब मानव उत्थान के साधन है ,
जीवन एक भवसागर है , काया उसमें तरण करती हुई नौका है , जो समय के थपेड़ों को सहते हुए
आगे बढ़ती है ,
धैर्य की पतवार , आत्मविश्वास का संबल एवं दूरदृष्टि की सोच इस नौका को अवसाद रूपी चट्टानों से टकराकर मनोबल टूटकर बिखरने से बचाती है ,
नकारात्मक लहरों से सतत् सामना करने के लिए सकारात्मक सोच साहस संचरित कर षड्यंत्र रुपी
भंवर में नौका को डूबने से बचाती है ,
निस्पृह त्याग एवं बलिदान मानव जीवन को
सार्थक एवं श्रेष्ठ बनाकर
इस महाप्रयाण को सफल बनाती है।

1 Like · 57 Views

Books from Shyam Sundar Subramanian

You may also like:
अहंकार और आत्मगौरव
अहंकार और आत्मगौरव
अमित कुमार
माँ स्कंदमाता
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गौरैया दिवस
गौरैया दिवस
Surinder blackpen
कवित्त
कवित्त
Varun Singh Gautam
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
दास्तां-ए-दर्द
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
बड़ा ही हसीन होता है ये नन्हा बचपन
बड़ा ही हसीन होता है ये नन्हा बचपन
'अशांत' शेखर
पाई फागुन में गई, सिर्फ विलक्षण बात (कुंडलिया)
पाई फागुन में गई, सिर्फ विलक्षण बात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
माँ के सपने
माँ के सपने
Rajdeep Singh Inda
★उसकी यादों का साया★
★उसकी यादों का साया★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मेरी है बड़ाई नहीं
मेरी है बड़ाई नहीं
Satish Srijan
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-215💐
💐प्रेम कौतुक-215💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूत प्रेत का भय भ्रम
भूत प्रेत का भय भ्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
-- बेशर्मी बढ़ी --
-- बेशर्मी बढ़ी --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
■ लीक से हट कर.....
■ लीक से हट कर.....
*Author प्रणय प्रभात*
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
मृत्यु भोज (#मैथिली_कविता)
मृत्यु भोज (#मैथिली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"ब्रेजा संग पंजाब"
Dr Meenu Poonia
आदरणीय अन्ना जी, बुरा न मानना जी
आदरणीय अन्ना जी, बुरा न मानना जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साया भी अपना।
साया भी अपना।
Taj Mohammad
मेरी आंखों का ख्वाब
मेरी आंखों का ख्वाब
Dr fauzia Naseem shad
समय
समय
Saraswati Bajpai
आपकी इस मासूमियत पर
आपकी इस मासूमियत पर
gurudeenverma198
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
कवि दीपक बवेजा
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
शूद्रों और स्त्रियों की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
शायरी
शायरी
goutam shaw
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
Loading...