Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

महाकवि,जगत् मसीहा मार्ग-दर्शक*बाबा साहब*

*आदर्श-युक्ति*
जिम्मेदारियों में नहीं है बोझ इतना,
जितना रिश्तों ने …उलझा दिया,
सीखना था बस स्वावलंबी बनना,
इसमें भी जाति-वर्ण का महाजाल बिछा दिया,

दलदल है ये समाज में,सभ्यता है ये,
संस्कृति है ये,…….परम्परा है ये,
रीति-रिवाज है ये,आवश्यक विषय है ये,
पढ़ना और निभाना जरूरी है….इसे,
इंसानियत को कुएं का मेंढ़क बना दिया,

ये तो बाबा साहब थे,जिन्होंने विरोध दर्ज करवा दिया, मानवता क्या है सिखा दिया,
मानव-मानव में जो भेद था ..मिटा दिया,

चालाकी देखो….
उन्हें सिर्फ “दलितों का मसीहा” का नाम दिया,
जिन्होंने जन-जन में भेद मिटा हर वर्ग का ख्याल किया,
आज वे सिर्फ आरक्षण के प्रणेता के नाम से जाने जाते है,

शत् शत् नमन उनको
जिन्होने स्वर्ण और शूद्र के बीच की खाई को मिटा दिया,
धर्म-परिवर्तन के गुर् को सिखा दिया,

उनके एक महासूत्र:-
शिक्षित बनो, संगठित रहो, संघर्ष करो,
सफलता के राज को उजागर कर दिया,

जय भीम?जय भारत,

1 Like · 1 Comment · 360 Views
You may also like:
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
संत की महिमा
Buddha Prakash
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...