Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

महसूस

तुम क्या जानो मेरे
दिल को तुम्हारी
कौन सी बात
चूभ गई है,
बेखबर सी रहती हो
फुर्सत नहीं है
किस कदर परेशान हूँ
तुम्हारी बेअदबी से,
अब कैसे कटेगी
यह बेजान जिंदगी
तुम्हारी जरूरत तो है
मगर क्या तुम
महसूस करती हो
जिंदगी में तुम्हारी
मेरी मौजूदगी?

369 Views
You may also like:
बंदर भैया
Buddha Prakash
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
पिता
Kanchan Khanna
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
आदर्श पिता
Sahil
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
विजय कुमार 'विजय'
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
संत की महिमा
Buddha Prakash
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...