Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

महर्षि संतसेवी

भारत के बिहार, झारखंड, पूर्वांचल, प. बंगाल के पश्चिमी क्षेत्र और नेपाल, भूटान, जापान तक फैले संतमत सत्संगियों के आदर्श सद्गुरुदेव ब्रह्मलीन महर्षि मेंहीं परमहंस के उत्तराधिकारी महर्षि संतसेवी जी का जन्म 20 दिसम्बर 1920 को बिहार के मधेपुरा जिला के गम्हरिया में कायस्थकुल में जन्म लिए ‘महावीर लाल’ ही महर्षि मेंहीं के सान्निध्य में ‘संतसेवी’ हो गए । सद्गुरुदेव के अविवाहित रहने पर वे भी एतदर्थ संन्यासी और आजन्म ब्रह्मचारी रहे, किन्तु महर्षि मेंहीं के कहने पर कटिहार जिले के मनिहारी और नवाबगंज में बच्चों को पढ़ाने लगे। वर्ष 1930-31 में महर्षि मेंहीं द्वारा स्थापित पहला संतमत सत्संग मंदिर नवाबगंज में बना और फिर मनिहारी गंगातट पर साधना कुटी बना, जहाँ स्वामी संतसेवी अंतेवासीरूपेण रहने लगे, यहीं कई आध्यात्मिक ग्रंथों का प्रणयन भी किया ।

‘योग महात्म्य’ नामक प्रसिद्ध ग्रंथ की रचना यहीं की गई थी। विदित है, उनके आध्यात्मिक गुरु महर्षि मेंहीं रचित ‘सत्संग योग’ एक महत्वपूर्ण पुस्तक है, जो चार भागों में है। ध्यातव्य है, ‘योग महात्म्य’ और ‘सत्संग योग’ ग्रंथ को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भी सराहे हैं। ‘महर्षि संतसेवी हीरक-जयंती अभिनंदन ग्रंथ’ में भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी के शुभकामना-पत्र भी प्रकाशित है, तब वाजपेयी जी लोकसभा में प्रतिपक्ष के नेता थे।

स्वामी संतसेवी को ‘महर्षि’ विभूषण सनातन हिन्दू धर्म के एक शंकराचार्य ने प्रदान किया था । देश के राष्ट्रपति रहे डॉ. शंकर दयाल शर्मा महर्षि संतसेवी के विचारों से प्रभावित रहे हैं । भारत रत्न श्री वाजपेयी सहित श्री चंद्रशेखर, श्री नरेन्द्र मोदी से लेकर बिहार, झारखंड सहित कई राज्यों के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, आईएएस, आईपीएस, अभिनेता, अभिनेत्री, खिलाड़ी इत्यादि महर्षि मेंहीं और महर्षि संतसेवी के विचारों से प्रभावित रहे हैं।

2 Likes · 2 Comments · 236 Views
You may also like:
खमोशी है जिसका गहना
शेख़ जाफ़र खान
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
✍️इश्क़ के बीमार✍️
"अशांत" शेखर
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* उदासी *
Dr.Alpa Amin
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुबारक हो।
Taj Mohammad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
#अपने तो अपने होते हैं
Seema Tuhaina
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ हंसी पल खुशी के।
Taj Mohammad
तमाल छंद में सभी विधाएं सउदाहरण
Subhash Singhai
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
बरसात
Ashwani Kumar Jaiswal
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...