Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author
Jun 29, 2022 · 1 min read

महफिल अफसूर्दा है।

आज अंजुमन में बड़े-बड़े अर्ज़मंद आए है।
फिर भी जानें क्यूं ये महफिल अफसूर्दा है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

अंजुमन=सभा
अर्ज़मंद=महान
अफसूर्दा=उदास

55 Views
You may also like:
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
'अशांत' शेखर
मेरे प्यारे देशप्रेमियों
gurudeenverma198
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
कभी कभी।
Taj Mohammad
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
'कृषि' (हरिहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
माँ गंगा
Anamika Singh
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
✍️मुकद्दर आजमाते है✍️
'अशांत' शेखर
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
*मरने का हर मन में डर है (गीतिका)*
Ravi Prakash
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
बेटी को लेकर सोच बदल रहा है
Anamika Singh
#अपने तो अपने होते हैं
Seema Tuhaina
मित्र
जगदीश लववंशी
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
Loading...