Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मर्द को भी दर्द होता है

कौन कहता है कि
मर्द को दर्द नहीं होता
दर्द होता है उसको भी लेकिन
वो सबके सामने नहीं रोता

मर्द का हो या औरत का
दिल तो बस दिल होता है
होता है जब दर्द इसको
दिल तो सबका रोता है

आसूं निकल आते हैं
जब किसी मर्द के यहां
लड़की जैसा कहते है उसको
दोस्त रिश्तेदार सब यहां

जाने क्यों आंसुओं को
लड़कियों से जोड़ते है लोग
दर्द होता है मर्द को जब
क्यों रोने भी नहीं देते है लोग

जब हम कहते हैं
मर्द को दर्द नहीं होता
दबाव पड़ता है उसपर
इसीलिए वो नहीं है रोता

दर्द होता है लेकिन
वो किसी से कह नहीं पाता
शिकार हो जाता है जब हृदयघात का
तबतक कोई जान नहीं पाता

7 Likes · 1 Comment · 505 Views
You may also like:
पापा
सेजल गोस्वामी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
पिता
Neha Sharma
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
Loading...