Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 2 min read

मयखाने

✒️📙जीवन की पाठशाला 📖🖋️

🙏 मेरे सतगुरु श्री बाबा लाल दयाल जी महाराज की जय 🌹

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की कई बार ऐसा लगता है इंसान को की सब कुछ छोड़ कर एक लम्बी यात्रा पर निकल जाए पर फिर लगता है की अपनों की भीड़ में भी तो हम अकेले ही यात्रा कर रहे हैं फिर बाहर जाकर क्या हासिल होगा ?हाँ अगर साथ रहते हुए ही अकेले अंदर की यात्रा (आत्मसाक्षात्कार )कर पाए तो क्या पता फिर कहीं भटकने की जरुरत ही ना पड़े …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की दुनियादारी के इस मेले में कुछ व्यक्ति अपने अहंकारवश अपने रिश्तों को खो देते हैं और कुछ अपने रिश्तों को बचाने -सहेजने और जिम्मेदारियों को पूरी करने के चक्कर में अपना वजूद -आत्मसम्मान खो देते हैं …,

जीवन चक्र ने मुझे सिखाया की जिंदगी की इस यात्रा में अनेकों रातें ऐसी भी कटती हैं जहाँ ना नींद होती है -ना ख्वाब बस होती है तो बेचैनी -दिलो दिमाग में चल रही जंग -बोझिल आँखें -निढाल शरीर -एक सन्नाटा और कब आँखें गीली होकर कुछ पल के लिए बंद होती हैं की अचानक मुर्गे की बांग -मंदिर की घंटी -मस्जिद की अजान और चिड़ियाओं की चहचाहट …,

आखिर में एक ही बात समझ आई की अगर जातिवाद का मिटता भेदभाव -इंसान का असली चरित्र -उसका दोहरा चेहरा देखना और समझना है तो मयखाने से होते हुए निकलिए ,जाने कितने भरम दूर हो जायेंगे ….!

बाकी कल ,खतरा अभी टला नहीं है ,दो गज की दूरी और मास्क 😷 है जरूरी ….सावधान रहिये -सतर्क रहिये -निस्वार्थ नेक कर्म कीजिये -अपने इष्ट -सतगुरु को अपने आप को समर्पित कर दीजिये ….!
🙏सुप्रभात 🌹
आपका दिन शुभ हो
विकास शर्मा'”शिवाया”
🔱जयपुर -राजस्थान 🔱

98 Views
You may also like:
मेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
कुण्डलिया
Dr. Sunita Singh
वक्त लगता है
Deepak Baweja
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हमने वफ़ा निभाई है।
Taj Mohammad
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
केंचुआ
Buddha Prakash
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
बस तुम ही तुम हो।
Taj Mohammad
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
डूबता सूरज हूंँ या टूटा हुआ ख्वाब हूंँ मैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
हर रोज़ ही हम।
Taj Mohammad
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
कैसा इम्तिहान है।
Taj Mohammad
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
बेरूखी
Anamika Singh
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...