Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 22, 2022 · 1 min read

मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..

मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
मेरी आँखों से उलझा जो..
आँसू! उसको बहला जाओ ।
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ।।

जो तेरे साथ बिताए क्षण,
वो आज हुए स्मृति के कण ।
घर-ऑंगन के एक-एक कोने,
की याद मुझे कर दे बेकल ।

अपने ऑंचल की छाया से
फिर से मुझको सहला जाओ।
और अपने काॅंधे पर मेरा,
मस्तक रख मुझे रूला जाओ।
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ।।

अभिसिंचित कर दो तुम मुझको
स्नेह की मधुर फुहारों से।
स्मित दो मेरे अधरों को,
शब्दों के अमिट सहारों से।

फिर प्रात की उस मधुरिम पुकार से,
निद्रा मेरी खुला जाओ।
मेरे मन की व्याकुलता का,
हल कोई तुम बतला जाओ।

मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ।
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..

स्वरचित
रश्मि लहर,
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 68 Views
You may also like:
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
अरदास
Buddha Prakash
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
✍️हम सब है भाई भाई✍️
"अशांत" शेखर
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
Oh dear... don't fear.
Taj Mohammad
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
रसीला आम
Buddha Prakash
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी बेटी
Anamika Singh
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...