Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2020 · 1 min read

मन है कि मानता नहीं ( व्यंग्य )

मिस्टर मानूराम भी अपनी तरह के अकेले शख्स हैं । लाकडाउन चल रहा है इसलिए वह अपने दोस्तों से मिलने भी नहीं जा सकते और न ही उनके दोस्त मिलने आ सकते हैं । बड़ी मुश्किल जिंदगी लग रही है । बहुत कश्मकश है। बेचारे हरदम घूमने वाले कभी भी
घर में न टिकने वाले , इस लाकडाउन ने उनकी दिनचर्या ही ठप्प कर दी । बड़ी कठिनाई हो रही है एडजस्ट करने में । बड़ी याद आती है चौक चौराहों की दोस्त यारों की । पर क्या करें ,अब तो दिन भर टी वी है, बीबी है और बच्चे हैं । बेचारे मानूराम बाहर निकलने के लिए कितना भी मना करो कभी न मानने वाले अब
बीबी बच्चों में मस्त होने की कोशिश करने में लगे हैं । सोचा था 14 अप्रैल के बाद कुछ राहत मिलेगी दोस्त यारों से मिलेंगे चौक चौराहों की ख़ाक छानेंगे पर उसके बीतने से पहले ही दूसरा लाकडाउन आ गया । बेचारे बड़ी हिम्मत करके घर में ठहरे हैं ।सब कैद सा लग रहा है पर क्या किया जाए । एक दिन जब रहा नहीं गया तो सोचा चलो थोड़ी सी तफरीह करने में क्या हर्ज है ।
शर्ट पैंट पहनी और दुपहिया लेकर निकलने वाले ही थे कि बच्चा बोल उठा – पापा कहां चले ,बाहर पुलिऽऽस , डंडा ऽऽ । बेचारे मानूराम आखिर मान ही गए । पैंट शर्ट उतारी और बच्चों संग कैरम खेलने बैठ गए ।

अशोक सोनी ।

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 2 Comments · 189 Views

Books from अशोक सोनी

You may also like:
परिणय के बंधन से
परिणय के बंधन से
Dr. Sunita Singh
*
*"आदिशक्ति जय माँ जगदम्बे"*
Shashi kala vyas
पूनम का चांद
पूनम का चांद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नाम में क्या रखा है
नाम में क्या रखा है
सूर्यकांत द्विवेदी
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की..
Rashmi Sanjay
तुम ना आए....
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
2241.💥सबकुछ खतम 💥
2241.💥सबकुछ खतम 💥
Khedu Bharti "Satyesh"
"बीमारी न छुपाओ"
Dushyant Kumar
नसीब
नसीब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राजनीति मे दलबदल
राजनीति मे दलबदल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेहनत तुम्हारी व्यर्थ नहीं होगी रास्तो की
मेहनत तुम्हारी व्यर्थ नहीं होगी रास्तो की
कवि दीपक बवेजा
ਧੱਕੇ
ਧੱਕੇ
Surinder blackpen
बिखरे हम टूट के फिर कच्चे मकानों की तरह
बिखरे हम टूट के फिर कच्चे मकानों की तरह
Ashok Ashq
मुस्तहकमुल-'अहद
मुस्तहकमुल-'अहद
Shyam Sundar Subramanian
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
'निशा नशीली'
'निशा नशीली'
Godambari Negi
💐प्रेम कौतुक-231💐
💐प्रेम कौतुक-231💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर...
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
ख़ैरियत अपनी वो नहीं देगा
ख़ैरियत अपनी वो नहीं देगा
Dr fauzia Naseem shad
देखिए भी प्यार का अंजाम मेरे शहर में।
देखिए भी प्यार का अंजाम मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आख़िरी बयान
आख़िरी बयान
Shekhar Chandra Mitra
सच्ची पूजा
सच्ची पूजा
DESH RAJ
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
कविता
कविता
Sunita Gupta
प्रेम -जगत/PREM JAGAT
प्रेम -जगत/PREM JAGAT
Shivraj Anand
कैसे मुझे गवारा हो
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)*
*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य...
Ravi Prakash
■ राज़_की_बात
■ राज़_की_बात
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...