Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मन : हाइकु

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

मन : हाइकु

01. महका मन
हाइकु की सुगंध
बाँचे पवन ।

02. मन फकीर
चित्रोत्पला के तीर
रे ! क्यों अधीर ?

03. प्रथम वर्षा
सौंधी महकी धरा
मन हर्षाया ।

04. बूँदें बरसीं
तन व मन गीले
प्रीत जगातीं ।

05. मन गुलाब
झुलसाती धूप ने
जलाए ख्वाब ।

06. मन रावण
वासना की कुटिया
सिया हरण ।

07. मन बहके
फूटी स्वप्न कलियाँ
टेसू महके ।

08. मन उल्लास
बौराया है फागुन
गा उठा फाग ।

09. प्रेम का रंग
लग हर्षाया तन
फगवा मन ।

10. होली के रंग
प्रेम से पगे मन
होली उमंग ।

11. तेरी छुवन
मन बगर गया
मानो बसंत ।

12. पंछी का मन
कँपकँपाता हिम
स्तब्ध जीवन ।

13. मन की धुन
बचपन की बात
ले डाली सुन ।

14. मीरा का मन
अनुराग से पगा
कनु का संग ।

15. पूष की रात
हल्कू जाएगा खेत
मन उदास ।

16. होरी का मन
गोबर औ धनिया
रहें प्रसन्न ।

17. गेहूँ की बालि
झूमती गीत गाती
मन हर्षाती ।

18. फुली सरसों
पियराने लगे हैं
मन के खेत ।

19. दीप जलते
रोशन कर जाते
मन हमारे ।

20. घना अंधेरा
दीप जलता रहा
मन अकेला ।

21. पत्ते झरते
ईश्वर की शरण में
मन रमाते ।

22. माटी का तन
तप कर निखरा
कंचन मन ।

23. घर थे कच्चे
तब की बात और
मन थे सच्चे ।

24. मन के भेद
मिटाएँ तो मिटेंगे
मत के भेद ।

25. मयारु मन
लोक गीत चंदन
माटी वंदन ।

26. बाँसों के वन
रिलो में झूम उठे
लोगों के मन ।

27. मन क्या जुड़े
जुड़ गये दिल भी
हृदय जुड़े ।

28. घुँगरु बना
नाचता रहा मन
छन.. छनाया ।

29. आदमी-पंक्ति
मन एक हाइकु
छंद प्रकृति ।

30. धूप को धुने
मन मानो बादल
गुन गुनाए ।

31. काँच सा मन
ह.ह. तोड़ ही दिया
धूप निर्मम ।

32. तनहा मन
प्रकृति की गोद में
हुआ सानंद ।

33. टूटी पत्तियाँ
कैसे संभले मन
रूठी डालियाँ ।

34. मन व्यथित
भाव निर्झर हुए
निकली पीर ।

35. भव सरिता
मन बना नाविक
खे रहा नाव ।

36. मृग नादान
कस्तूरी की तलाश
गँवाया प्राण ।

□ प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
साहित्य प्रसार केन्द्र साँकरा
जिला – रायगढ़ (छत्तीसगढ़)
   मो.नं. 7828104111

947 Views
You may also like:
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुन्दर घर
Buddha Prakash
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
अनामिका के विचार
Anamika Singh
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनामिका के विचार
Anamika Singh
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
Loading...