Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 25, 2016 · 1 min read

मन सुमन को चाहिए लब मुस्कराते: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट११२)

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ ::: मुक्तक
—————-+—+——+;+++-+++-
मन सुमन को चाहिए, लब मुस्कराते ।
कवि रसिक को चाहिए ये गीत गाते ।
हों ऋचाएँ छंद के सँग में मधुरतम| ।
और सुन हम भी ‘ कमल ‘ कुछ गुनगुनाते ।।

दीपावली ! दीपावली ! दीपावली !
गाइए सब गीतिका हो मन सरल ।
दीप ये जलकर मिटायेंगे तिमिर सब ।
खिल मुदित हो जायेंगे मन के ‘ कमल ‘।।

—— जितेंद्रकमलआनंद रामपुर ( उत्तर प्रदेश)

208 Views
You may also like:
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
आओ तुम
sangeeta beniwal
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
बंदर भैया
Buddha Prakash
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
Loading...