Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#18 Trending Author
Apr 9, 2022 · 1 min read

*मन या तन *

डा. अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक , अरुण अतृप्त

* मन या तन *

एक स्त्री जब कविता लिखती है
एक नर जब कविता लिखता है
बहुत अन्तर होता है –
स्त्री मन को लेकर
काव्य सृजन करती है
पुरुष तन को लेकर
काव्य सृजन करता है
अर्थात् स्त्री मनोभाव
से प्रेरित होती है
और पुरुष यथार्थ से
स्त्री कोमल कोमल कोमल
भाव बुनती है
और पुरुष सपनों को लेकर
संजीदा हो जाता है
दोनो इस धरती पर ही
रहते हैं एक ही परिवेश
में जीते है
एक सा ही जीवन भोगते हैं
फिर भी न जाने क्युं
स्त्री द्वारा रचित काव्य
स्पन्दन पैदा करता है
और पुरुष द्वारा रचित काव्य उत्तेजना ,
सोच सोच की बात है
स्त्री कृष्ण को प्यार करती हैं
तो वहीं पुरुष शिव को रमता है
शब्द वही हैं बस उनके जनक
एक स्त्री व एक पुरुष
एक नर एक नारी
किसी भी वय के हों
अर्धव्यस्क , वयस्क युवा प्रौढ
अधेढ़ या सम्पुर्ण परिपक्व जीवन
तो उनके सम्पुर्ण लेखन में
झंकृत होता है फर्क बस
लैंगिक होता है – एक चिर जागृत
एक सुसुप्त नशेमन
धड्कता सुसुप्त नशेमन

1 Like · 3 Comments · 92 Views
You may also like:
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
लड़ते रहो
Vivek Pandey
जावेद कक्षा छः का छात्र कला के बल पर कई...
Shankar J aanjna
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
“ मेरे राम ”
DESH RAJ
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
फूल
Alok Saxena
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
हम और... हमारी कविताएँ....
Dr. Alpa H. Amin
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" शीतल कूलर
Dr Meenu Poonia
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
Loading...