Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

” ————————————————– मन मयूर है नाचे ” !!

उम्र सीढ़ीयां चढ़ती जाये , यौवन भरे कुलांचे !
कैसे दिल का हाल बतायें , मन मयूर है नाचे !!

रूप रंग तो बरसा ना है , दुख की छांव घनेरी !
काया मिली सलोनी ऐसी , कैसे इसे तराशें !!

कारी कारी अँखियों में जो , उजले ख़्वाब बसे हैं !
न्यारे न्यारे लगते है वे , सारे मुझे जहां से !!

जीवन की परिभाषा जानी , गूढ़ अर्थ है इसके !
औरों के मन की हलचल को , अंतर्मन से बाँचें !!

घाट घाट पर देखी फिसलन , बरतें बड़ी सजगता !
लोग यहां हैं इसी ताक में , कैसे भरें परांचे !!

बोल यहां हो तोल तोल कर , और हंसी को साधें !
अपने दर्पण धूल चढ़ी हो , लोग ओर को जांचे !!

हंसना है तो खुद पर हंस लो , यही राज़ है गहरा !
वरना झूंठे किस्से यों भी , लगते सबको सांचे !!

आज निशाना खुद पर साधूं कल फिर अग्नि परीक्षा !
परिणामों की उम्मीदों से , खिलना चाहें बांछें !!

बृज व्यास

383 Views
You may also like:
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रफ्तार
Anamika Singh
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
संत की महिमा
Buddha Prakash
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पंचशील गीत
Buddha Prakash
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
पल
sangeeta beniwal
Loading...