Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 3, 2022 · 1 min read

मन पीर कैसे सहूँ

मन पीर कैसे सहूँ ,तुम बिन कैसे रहूँ
अब और क्या कहूँ ,खुद कुछ जान लो ।

तुम्हीं लगते जीवन ,तुम्हीं मेरे प्राणधन
माना तुमको सजन ,अब पहचान लो ।

प्रतीक्षारत है आँख ,उगते हैं नित पाँख
करो न यूँ स्वप्न राख ,अपना तो मान लो ।

चतुर तुम्हारा ज्ञान ,मुझको यही है भान
दोगी प्यार प्रतिदान ,हृदय में ठान लो ।

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
2/6/2022

2 Likes · 2 Comments · 99 Views
You may also like:
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कबीरा बोल...✍️
'अशांत' शेखर
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
✍️मोहब्बत की राह✍️
'अशांत' शेखर
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जुबां खामोश रहती है
Anamika Singh
'नील गगन की छाँव'
Godambari Negi
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
✍️घर घर तिरंगा..!✍️
'अशांत' शेखर
'नटखट नटवर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
दहेज़
आकाश महेशपुरी
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
# जीत की तलाश #
Alpa
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
*संस्मरण*
Ravi Prakash
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
लो अब निषादराज का भी रामलोक गमन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
Loading...