Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2016 · 1 min read

मन निर्विकार

निर्विकार निराकार एक स्वप्न
साकार होता हुआ ,
तोड़ कर भ्रान्तियाँ ,
कर रहा क्रान्तियाँ ,
किन्तु है निशब्द ,
मन मेँ है भय व्यप्त ,
स्वप्न ही तो मगर ,
जो आज क्रान्तिकारी हुआ ,
मन के जो कनक पट ,
जो बन गये थे बंद गुहा ,
खुलते ही जा रहे हैँ ,
टूटते ही जा रहे हैँ ,
स्वप्न के आगाज़ से ,
स्वप्न के दबाव से,
परिवर्तन ने फैलाये पर,
ह्रदय के कपाट पर ,
प्रतीक्षा है अब तो बस ,
काश ये हो जाये सच,,
कल्पना के ढेर से ,
स्वप्न वो बाहर तो आये,
मंजिलोँ को ढ़ूँढ पाये ॥” **

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 446 Views
You may also like:
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'धरती माँ'
Godambari Negi
✍️इतिहास के पन्नो पर...
'अशांत' शेखर
हम आपको नहीं
Dr fauzia Naseem shad
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां
KAPOOR IQABAL
Karoge kadar khudki tab 🙏
Nupur Pathak
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
" शरारती बूंद "
Dr Meenu Poonia
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।
Taj Mohammad
सियासी क़ैदी
Shekhar Chandra Mitra
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
काश
Harshvardhan "आवारा"
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
योग करो।
विजय कुमार 'विजय'
“हिमांचल दर्शन “
DrLakshman Jha Parimal
🌈🌈प्रेम की राह पर-66🌈🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्द पन्नों पर उतारा है
Seema 'Tu hai na'
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
प्रथम अभिव्यक्ति
मनोज कर्ण
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गलती का भी हद होता है ।
Nishant prakhar
Loading...