Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 29, 2021 · 1 min read

“मन का सुकून”

?️?️भीग जाने दो मुझे बरसात में,
??शायद उसका एहसास तो धुल जाए।
??उसे भूल जाने की उम्मीद तो नही,
❤️❤️पर दिल की करके क्या पता मन को सुकून आ जाए।

6 Likes · 10 Comments · 239 Views
You may also like:
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
$$सत्संगेन विवेक: जाग्रत: भवति$$
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तड़पती रही मैं सारी रात
Ram Krishan Rastogi
"कारगिल विजय दिवस"
Lohit Tamta
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
✍️जर्रे में रह जाऊँगा✍️
'अशांत' शेखर
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
✍️जिंदगी क्या है...✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Dr.Priya Soni Khare
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
'अशांत' शेखर
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो पत्थर
shabina. Naaz
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
आजमाइशें।
Taj Mohammad
आदर्श पिता
Sahil
"ईद"
Lohit Tamta
बाजारों में ना बिकती है।
Taj Mohammad
सुकून
Harshvardhan "आवारा"
पैसा बोलता है...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
चाँद और चाँदनी का मिलन
Anamika Singh
वक्त ए ज़लाल।
Taj Mohammad
Loading...