Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

मन को मोह लेते हैं।

कल कल करती नादिया,,,
चीं चीं करती चिड़िया,,,
भंवरे का पुष्प पे गुंजन करना,,,
ये सब मन को मोह लेते है।।

पीहू का पपीहा,,,
कोयल का कू क करना,,,
मेघा का गरज कर घुमड़ना,,,
ये सब हृदय को जोड़ लेते है।।

मस्जिद की आती आजाने,,,
मंदिर में घंटियों की आवाजे,,,
त्यौहारों में मेले की दुकानें,,,
ये सब अपनी ओर मोड़ लेते है।।

बचपन में ननिहाल,,,
शादी के बाद ससुराल,,,
जवानी में जिंदगी के हालात,,,
ये सब मनुष्य गौर से जीते है।।

साधु का व्यवहार,,,
मनुष्य का सदाचार,,,
जीवन में संस्कार,,,
ये सब किसी को दोष ना देते है।।

प्रीतम की प्रेम इच्छा,,,
समय की प्रतीक्षा,,,
गुरु की दीक्षा,,,
ये सब मन के होश में करते है।।

किस्मत की मार,,,
अपनो की दुत्कार,,,
समाज से बहिष्कार,,,
ये सब मनुष्य को तोड़ देते है।।

कालियों का सूर्य प्रकाश में खिलना,,,
हरी घास में ओस की बूंदों का चमकना,,,
पर्वतों से झरने का गिरना,,,
ये सब प्रकृति को ओढ़ लेते है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
126 Views
You may also like:
हाँ, वह "पिता" है ...........
Mahesh Ojha
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
तुझ में जो खो गया है वह मंज़र तलाश कर।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सच में शक्ति अकूत (गीत)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
प्रकाश
Saraswati Bajpai
भोरे
spshukla09179
सञ्जीवनी साधना
Er.Navaneet R Shandily
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"कश्मकश जिंदगी की"
Dr Meenu Poonia
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
देख रहा था
Mahendra Narayan
'गणेशा' तू है निराला
Seema 'Tu hai na'
✍️पाँव बढाकर चलना✍️
'अशांत' शेखर
बुढापा
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम जो हो
Shekhar Chandra Mitra
* सृजक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे सनम
DESH RAJ
हम तमाशा थे ज़िन्दगी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
ज़रूरी नहीं।
Taj Mohammad
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
नारियल
Buddha Prakash
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
*शेर और बिल्ली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
अजब-गजब इन्सान...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोस्ती और दुश्मनी
shabina. Naaz
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...