Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
May 23, 2022 · 1 min read

मन को मोह लेते हैं।

कल कल करती नादिया,,,
चीं चीं करती चिड़िया,,,
भंवरे का पुष्प पे गुंजन करना,,,
ये सब मन को मोह लेते है।।

पीहू का पपीहा,,,
कोयल का कू क करना,,,
मेघा का गरज कर घुमड़ना,,,
ये सब हृदय को जोड़ लेते है।।

मस्जिद की आती आजाने,,,
मंदिर में घंटियों की आवाजे,,,
त्यौहारों में मेले की दुकानें,,,
ये सब अपनी ओर मोड़ लेते है।।

बचपन में ननिहाल,,,
शादी के बाद ससुराल,,,
जवानी में जिंदगी के हालात,,,
ये सब मनुष्य गौर से जीते है।।

साधु का व्यवहार,,,
मनुष्य का सदाचार,,,
जीवन में संस्कार,,,
ये सब किसी को दोष ना देते है।।

प्रीतम की प्रेम इच्छा,,,
समय की प्रतीक्षा,,,
गुरु की दीक्षा,,,
ये सब मन के होश में करते है।।

किस्मत की मार,,,
अपनो की दुत्कार,,,
समाज से बहिष्कार,,,
ये सब मनुष्य को तोड़ देते है।।

कालियों का सूर्य प्रकाश में खिलना,,,
हरी घास में ओस की बूंदों का चमकना,,,
पर्वतों से झरने का गिरना,,,
ये सब प्रकृति को ओढ़ लेते है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

43 Views
You may also like:
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हर लम्हा।
Taj Mohammad
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज के नौजवान
DESH RAJ
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
रूह को कैसे सजाओगे।
Taj Mohammad
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
Loading...