Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 1 min read

मन की व्यथा।

मकाम पर नजर गड़ाए बैठे हो।
कर्म पर ध्यान नहीं है कोई।
धनुष टांग कर घूम रहे।
तुनीर में तीर नहीं है कोई।
व्यवस्था साधन सब विधिवत् हो।
तभी फलीभूत होगे कहीं।

राम को जाने नहीं।
जोग रमाए बैठे हो।
बिना मतलब के ही दाढ़ी बढ़ाए बैठे हो।
वस्त्र से ज्यादा साफ तुम्हारा मस्तिष्क देखा जाता है।
खुदा के द्वारा तो यही हर पल परखा जाता है।

भाव तुम्हारे बतलाते है श्रृद्धा तुममें कितनी है।
ज्ञान चक्षु का न द्वार खुला पर वाणी तेरी रमणीय है

आत्मा के तरंग का परमात्मा संग होगा जिस दिन मिलन।
उसी दिन मोक्ष का द्वार खुलेगा होगा तेरा शांत मन।

Language: Hindi
200 Views
You may also like:
💐💐बेबी मेरा टेस्ट ले रही💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
कुछ बातें
Harshvardhan "आवारा"
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
छुपकर
Dr.sima
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
मानसिक जड़ता
Shekhar Chandra Mitra
अपना महत्व
Dr fauzia Naseem shad
*बाहर से तो फटेहाल हैं नेताजी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
सबेरा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
■ यादों का झरोखा (संस्मरण)
*Author प्रणय प्रभात*
लेखनी चलती रही
Rashmi Sanjay
बेपर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
मुजीब: नायक और खलनायक ?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
जम्हूरियत
बिमल
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
यह आखिरी है दफा
gurudeenverma198
दिन जल्दी से
नंदन पंडित
“ हमारा निराला स्पेक्ट्रम ”
Dr Meenu Poonia
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
नायिका की सुंदरता की उपमाएं
Ram Krishan Rastogi
परवाना ।
Anil Mishra Prahari
मंजिल दूर है
Varun Singh Gautam
✍️सुर गातो...!✍️
'अशांत' शेखर
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...