Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मन का मीत

मन का मीत तोड़ प्रीत छोड़ अकेली चला गया,
प्यार में खोया मन रोया जीवन मेरा छला गया।

चिंता जगी आग लगी चिराग बुझा मोहब्बत का,
हुई ख़ता मिली सजा भूली जो वक़्त इबादत का।

दर्द मिला यही गिला कही हर बात उसे दिल की,
गम पीया सब्र किया खबर रही ना महफ़िल की।

दिल टुटा साजन रूठा सावन जैसे आँखे बरसी,
वो बिछड़ा संसार उजड़ा प्यार को उसके तरसी।

मिली बेवफ़ाई हुई जुदाई सुई सी चुभी मेरे तन में,
धोखा दिया छल किया पल रहा गुस्सा मेरे मन में।

गैर के वास्ते बदले रास्ते निकले झूठे उसके वादे,
तन्हा छोड़ा विश्वास तोड़ा काश समझ पाती इरादे।

कबूल सच गयी बच नयी जिंदगी की शुरुआत कर,
थी नादान सुलक्षणा मान अपना वो दौर ना याद कर।

©® सर्वाधिकार डॉ सुलक्षणा अहलावत के पास सुरक्षित हैं।

1 Like · 1 Comment · 252 Views
You may also like:
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
नाम
Ranjit Jha
“IF WE WRITE, WRITE CORRECTLY “
DrLakshman Jha Parimal
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
पिता
Ray's Gupta
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
मन की उलझने
Aditya Prakash
हर लम्हा।
Taj Mohammad
पिता
Kanchan Khanna
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
दो पल मोहब्बत
श्री रमण
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...