Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 17, 2016 · 1 min read

मन उजला सा दर्पण हो।

काम क्रोध का ढेर नहीं हो मन उजला सा दर्पण हो।
उर में सत्य अहिंसा के सँग सेवा भाव समर्पण हो।
मिला यहीं पर सब कुछ तुझको यहीं रखा रह जायेगा।
मानवता के नाते सब कुछ मानवता को अर्पण हो।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

2 Comments · 244 Views
You may also like:
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
पिता
Saraswati Bajpai
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुमत
मनोज कर्ण
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...