Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 16, 2016 · 1 min read

मन्ज़रों के नाम होकर रह गयी

मन्ज़रों के नाम होकर रह गयी
खास सुरत आम होकर रह गयी

रात दुख की काटकर बैठै ही थे
जिन्दगी की शाम होकर रह गयी

ज़िंदगी का नाम क्या रखता कोई
मौत का पैग़ाम होकर रह गयी

रफ्ता रफ्ता पी लिए और जी लिए
ज़िंदगी क्या जाम होकर रह गयी

शायरी इन’आम की हक़दार थी
अब तो बस इल्ज़ाम होकर रह गयी

– नासिर राव

1 Comment · 358 Views
You may also like:
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
Security Guard
Buddha Prakash
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता
Shankar J aanjna
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...