Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-517💐

मनुष्य के नेत्र सबसे अधिक पाप कमाते हैं।ये हृदय को अपनी तिजोरी बनाना चाहते हैं और कहीं तक सफल भी होते हैं।परन्तु हृदय के पुण्य रूपी नेत्र जब खुलते हैं तो खोपड़ी वाले नेत्र बन्द हो जाते हैं।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
डॉक्टर की दवाई
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
और मैं .....
और मैं .....
AJAY PRASAD
संविधान  की बात करो सब केवल इतनी मर्जी  है।
संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*रेवड़ी आराम से, अपनों को बाँटी जा रही (मुक्तक)*
*रेवड़ी आराम से, अपनों को बाँटी जा रही (मुक्तक)*
Ravi Prakash
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
लाशें बिखरी पड़ी हैं।(यूक्रेन पर लिखी गई ग़ज़ल)
Taj Mohammad
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
शिक्षक है आदर्श हमारा
शिक्षक है आदर्श हमारा
Harminder Kaur
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
Sudha Maurya
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
समाज के बदल दअ
समाज के बदल दअ
Shekhar Chandra Mitra
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण  कटार  धरो माँ।
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण कटार धरो माँ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️बारिश का मज़ा ✍️
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
पहले प्रत्यक्ष को
पहले प्रत्यक्ष को
*Author प्रणय प्रभात*
✍️एक सुबह और एक शाम
✍️एक सुबह और एक शाम
'अशांत' शेखर
जिन्दगी और सपने
जिन्दगी और सपने
Anamika Singh
खंडर इमारत 🏚️
खंडर इमारत 🏚️
Skanda Joshi
अकेला चलने का जिस शख्स को भी हौसला होगा।
अकेला चलने का जिस शख्स को भी हौसला होगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
सपनों में खोए अपने
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Sahityapedia
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
एक तलाश
एक तलाश
Ray's Gupta
Loading...