Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 7, 2017 · 1 min read

मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।

मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
जनसंख्या विस्फोट कर रहे बन कर के टुच्चे।

दिव्य चेत बिन नाच रहा नर, बनकर नंगा ।
बिना ज्ञान के बढ़े गरीबी ,बढ़ते दंगा ।
सँभल बुढापे, पलटवार करते हैं अब बच्चे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे ।

दारू पीकर शेषनाग बनती तरुणाई ।
गिर, नाली का पानी पी लेती जम्हाई।
खास-खाँस लें श्वास रूप पर नाच रहे लुच्चे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे ।

बेटी शिक्षा की भूखी, निज घर में रोती।
पाषाड़ों-सी बनी, कुपोषित, दुख को ढोती ।
हे ईश्वर ! हम शांतआज भी बन करके कच्चे ।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे ।
______________
●उक्त रचना/व्यंग्य को “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।

●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

बृजेश कुमार नायक (pt Brijesh Nayak)
07-05-2017

2 Likes · 1 Comment · 910 Views
You may also like:
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कारस्तानी
Alok Saxena
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ये माला के जंगल
Rita Singh
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
Loading...