Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 17, 2016 · 1 min read

मनहर घनाक्षरी छंद

मंच को सादर निवेदित एक रचना…….
“मनहर घनाक्षरी”

बहुत विचार हुआ, दिल से करार हुआ, अब हिल मिल सब, मान भी बढ़ाइए
राष्ट्र भाषा हिंदी बिंदी, ललिता लाली कालिंदी, कन्या कुमारी काश्मीर, राग धुन गाइए
भेष भूसा साथ साथ, राष्ट्र गान सुप्रभात, बीर बलवान त्याग, सैन्य दुलराइए
गौतम दुलार घर, वन बाग़ जल थल, माँ भारती की महिमा, झंडा लहराइए।।

खान-पान स्वच्छ रहे, काया काल स्वस्थ रहे, मन में लगन हो तो, आकाश हो आइए
पूर्वजी प्रताप संग, मातु महा पितृ पक्ष, अर्पण तर्पण श्राद्ध, गया मोक्ष पाइए
सूर्य उपासना है, श्राद्ध श्रद्धा साधना है, जव तील अक्षत ले, विनम्र चढ़ाइए
संस्कृति संस्कार पूज्य, वेद व कुरान सुज्ञ, नीति रीति गरिमा है, गौतम बनाइए।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

1 Like · 154 Views
You may also like:
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
मंदिर
जगदीश लववंशी
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
✍️सलीक़ा✍️
"अशांत" शेखर
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
तपिश
SEEMA SHARMA
'पिता' संग बांटो बेहद प्यार....
Dr. Alpa H. Amin
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
मनोमंथन
Dr. Alpa H. Amin
धर्म
Vijaykumar Gundal
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
हसद
Alok Saxena
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
उसको बता दो।
Taj Mohammad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
हर अश्क कह रहा है।
Taj Mohammad
Loading...