Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 23, 2022 · 1 min read

मनस धरातल सरक गया है।

अतल वितल को सुतल बनाते
मनस धरातल सरक गया है ।
झूल रहा मन दसों दिशायें
बिना सतह के भटक गया है।
इस विचलन व स्पन्दन से
मन में कितना कोलाहल है ।
जगत ज्वाल में ऐसा झुलसा
जैसे जग ये दावानल है ।
पता नहीं बच पायेगा भी
याकि अब ये मिट जायेगा ।
चेतन का ‘चि’ उड़ जायेगा
बस तन पिंजर रह जायेगा ।
कितनी अभिलाषायें मन की
सब सज-धज तैयार खड़ीं थी।
मन ने इनको अभी वरा था
आज झुलस गईं क्लान्त पड़ीं ।
या तो प्रभु उबारो मुझको
या फिर अपने पास बुला लो ।
असह्य वेदना थका रही है ।
मुझको कोई ठौर लगा दो ।

78 Views
You may also like:
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
सौगंध
Shriyansh Gupta
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
"अशांत" शेखर
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
"अशांत" शेखर
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
तुम मेरी हो...
Sapna K S
पिता
Satpallm1978 Chauhan
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
आज के नौजवान
DESH RAJ
✍️दो पंक्तिया✍️
"अशांत" शेखर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...