Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2021 · 1 min read

मदहोश

तेरी यादें मुझे मदहोश सी कर गई
दिल मे एक मीठी खनक सी कर गई
फूलों की खुशबू से,तितली दीवानी हुई
भवरें पर तो देखो जैसे मदहोशी छा गई।

अपनी सभ्यता आज खोती सी चली गई
पश्चिमी सभ्यता की बस मदहोशी छा गई
फैशन की आड़ में आज सभ्यता चली गई
अधनंगी आज लज्जा की मदहोशी छा गई।

पिता आज डैड और माँ मॉम हो गई
आज सब पाश्चात्य सभ्यता के दीवाने हो
नमस्ते अब चली और हाय हो गई
बाय बाय में दुनिया मदहोश हो गई।

करके मन मुताबिक सॉरी बोल गए
हैवानियत में अब सब मदहोश हो गए
बर्द्धाश्रम भेज अपनो को खुश हो गए
कलयुग में बच्चे सारे मदहोश हो गए।

पत्नी भी आफिस जाकर कमाने लग गई
पति के सर चढ़कर लालच में मदहोश हो गई
पाश्चात्य संस्कृति की छाप जो पड़ गई
युवा पीढ़ी हमारी नशे में मदहोश हो गई।

1 Like · 172 Views
You may also like:
का हो पलटू अब आराम बा!!
Suraj Kushwaha
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
My eyes look for you.
Taj Mohammad
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
मकान जला है।
Taj Mohammad
✍️दहशत में है मजारे✍️
'अशांत' शेखर
FATHER IS REAL GOD
KAMAL THAKUR
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
यादों के झरोखों से।
Taj Mohammad
पैसों की भूख
AMRESH KUMAR VERMA
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरी नेकियां।
Taj Mohammad
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
✍️दबी जुबाँ✍️
'अशांत' शेखर
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
जिन्दगी
Anamika Singh
कवि का कवि से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...