Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

*** मत, भेद रखिए ***

मतभेद रखिए मन भेद ना रखिए ज़िगर में

जुदा हर शख्स है फिर भी रखिए ज़िगर में

नज़र प्यार की रखिए जाइये ना फ़िगर पे

मत,भेद रखिए इंसां के नाजुक से ज़िगर में ।।
?मधुप बैरागी

1 Like · 153 Views
You may also like:
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतजार
Anamika Singh
Little sister
Buddha Prakash
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
Loading...