Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मत ज़हर हबा में घोल रे

वंदे आंखें खोल रे, मत ज़हर हबा में घोल रे
हबा है तेरी जीवन रेखा, क्यों न जाने मोल रे
काट रहा नित पेड़ पुराने, क्यों न पेड़ की महिमा जाने
काट रहा क्यों उस डाली को, जिसमें तेरी जान रे
कुदरत के संग रहना वंदे,खुदा का है पैगाम रे
जल जंगल जमीन हैं वंदे,कुदरत का ईनाम रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

1 Like · 71 Views
You may also like:
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
मां
हरीश सुवासिया
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
गज़ल
Saraswati Bajpai
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बंदर भैया
Buddha Prakash
वार्तालाप….
Piyush Goel
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H. Amin
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
क्यों मार दिया,सिद्दू मूसावाले को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
दुनिया
Rashmi Sanjay
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
ये सियासत है।
Taj Mohammad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...