मत कर नारी का अपमान

अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।
है समृद्ध संस्‍कृति नारी से, ऐ ! नादान।।

कुल देवी, कुल की रक्षक, कुल गौरव है।
बहिन, बहू, माता, बेटी यही सौरव है।
वंश चलाने को, वह बेटा-बेटी जनती,
इसका निरादर, इस धरती पर रौरव है।

बिन इसके हो जाए न, घर-घर सुनसान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

सखी-सहेली, छैल-छबीली, यह अलबेलीा।
बन जाए ना, यह इक दिन, इतिहास पहेली।
झेल दिनों-दिन, पल-पल दहशत औ प्रताड़ना,
चण्‍डी, दुर्गा ना बन जाए, नार नवेली।

इसका संरक्षण करता, कानून-विधान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

पर्व, तीज, त्‍योहार, व्रतोत्‍सव, लेना-देना।
माँँ, बहिना, बेटी, बहु, है मर्यादा गहना।
कुल, कुटुम्‍ब की रीति, धरोहर परम्‍पराएँँ,
संस्‍कार कोई भी, इसके बिना मने ना।

प्रेम लुटा कर तन-मन-धन करती बलिदान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

घर का है सौभाग्‍य, है नारी, श्री साजन की।
घर का सेतु है, बागडोर, जीवन-यापन की।
समाधान, परिहार न, हो पाएँँ नारी बिन,
सुरमई स्‍वर्णलता है नारी, घर आँँगन की।

घर की ईंट-ईंट करती, इसका ही बखान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

बच्‍चे बनते योग्‍य, इसी के, तप धीरज से।
ज्‍यों दधि, घी, नवनीत, निखर आए क्षीरज से।
धन्‍यभाग सम्‍मान, जहाँँ, मिलता नारी को,
ज्‍यों महके दलदल में भी, सुरभी नीरज से।

दृढ़ता धरा सदृश, शीतलता चंद्र समान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

धरा सहिष्‍णु, नारी सहिष्‍णु, ममता की मूरत।
हर देवी की छवि में है, नारी की सूरत।
सुर, मुनि, सब इस आदिशक्त्‍िा के, हैं आराधक,
मानव की ही क्‍यों है, ऐसी प्रकृति बदसूरत।

भारी मूल्‍य चुकाना होगा, ऐ मनु ! मान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

महाभारत का मूल बनी थी जो, वो थी नारी।
रामायण भी सीता, कैकेयी की बलिहारी।
हर युग में नारी पर, अति ने, युग बदले है,
आज भी अत्‍याचारों से, बेबस है नारी।

एक प्रलय को पुन:, हो रहा अनुसंधान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

नारी ना होगी, तब होगा, जग परिवर्तित।
सेवाभाव खत्‍म, उद्यम, पशुवत परिवर्धित।
रोम-रोम से शुक्र फटेगा, तम रग-रग से,
प्रकृति करेगी जो, बीभत्‍स दृश्‍य, तब सर्जित।

प्रकृति प्रलय का तब, लेगी स्‍वप्रसंज्ञान।
अब भी सम्‍हल जा, मत कर, नारी का अपमान।।

है समृद्ध संस्‍कृति नारी से, एे ! नादान।
अब भी सम्‍हल जा, कर तू, नारी का सम्‍मान।।

451 Views
You may also like:
पिता का पता
श्री रमण
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
नंदन पंडित
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...