Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Sep 2022 · 2 min read

“मत कर तू पैसा पैसा”

“मत कर तू पैसा पैसा”
कैंसर से ग्रस्त जब हुई लेखिका
किर्जिदा रॉड्रिग्ज खूब चिल्लाई
संदेश पढ़ो तुम सारे मेरा
लिखते हुए आज आंखे भर आई
क्यों पैसा- पैसा करे तू इंसान
पैसे से कैसे तू पेट भरेगा
मधुर पल गुजार ले परिवार संग
कम से कम शांति से तो मरेगा
महंगी से महंगी कार खड़ी की
गैराज में अपने मैंने खुश होकर
व्हीलचेयर दे रही अब मुझे सहारा
आज मै बताऊं रो – रोकर
डिजाईनदार कपड़े भरे पड़े
मोती जड़ित मेरी अलमारी में
अनगिनत वस्तुएं कीमती मेरे पास
कंजूसी नहीं की जूतों की खरीददारी में
आज अस्पताल का दिया हुआ
छोटा सा कपड़ा लपेटना पड़ेगा
महंगे कपड़ों का क्या करूं अब मैं
सफेद चादर में शव ढकना पड़ेगा
बैंक खातों में भरा पड़ा
अरबों का खजाना छोड़ना पड़ेगा
गोली दवाई अब देंगी आराम
खाली हाथ धरती से जाना पड़ेगा

शव जाएगा मेरा भी शमशान में
मेरे शरीर की भी राख ही बनेगी
जीते जी हाय पैसा हाय पैसा किया
मरने के बाद दुनिया दिवंगत ही कहेगी
महल जैसा बनाया मकान मैंने
बीमारी में लेकिन वह काम नहीं देगा
बिस्तर रखा है लोहे का अस्पताल में
कमजोर शरीर को यही अब सहारा देगा
मखमली गद्दे रंग बिरंगों ने
मन को बहुत लुभाया था
स्प्रिंग लगे सोफों पर खुद को
मैंने भी आरामदायक पाया था
फाइव स्टार रेस्तरां में पार्टी की
देश विदेश में मैंने भ्रमण भी किया
पैसा कमाया बहुतायत में मैंने
सुकून लेकिन परिवारिक पलों ने ही दिया
ऑटोग्राफ दिया मैंने अनगिनत लोगों को
आज दवाई का पर्चा ऑटोग्राफ बन गया
सुनहरी यादों से ही थोड़ा चैन मिलेगा
पैसे की लत से तो मरना हराम हो गया
सात कर्मचारी रखकर मैंने
बालों की सार संभाल करवाई
आज सिर पर एक भी बाल नहीं
कैंसर से कैसे अब मैं करूं लड़ाई
पैसे से खरीदा ऐसो आराम
निजी विमान मेरा उड़न खटोला था
जहां मन किया वहां उड़ी इसमें
स्वभाव मेरा भी मस्त मौला था
गैराज में पड़े जंग खाएंगे अब
विमान और लग्जरी कार सभी
सहारा मांगू अस्पताल कर्मचारियों से
जब चलने की मैं सोचूं कभी
लजीज व्यंजन बहुतायत में फैले लेकिन
गोली और खारी दवाई मेरा आहार है
टूट चुकी हूं अब मैं बीमारी से
चिड़चिड़ा हुआ मेरा व्यवहार है
कार, कपड़े, विमान, फर्नीचर
पैसा और महल नहीं काम का
मीनू कहे मृत्यु ही सत्यता है
पारिवारिक क्षण ही है नाम आराम का ।
डॉ मीनू पूनिया

Dr.Meenu Poonia

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 75 Views
You may also like:
कब मैंने चाहा सजन
लक्ष्मी सिंह
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
💐प्रेम की राह पर-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुरुक्षेत्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिनके पास अखबार नहीं होते
Kaur Surinder
कैसे तुम बिन
Dr. Nisha Mathur
टीवी देखना बंद
Shekhar Chandra Mitra
नारी सशक्तिकरण
अभिनव अदम्य
✍️वास्तव....
'अशांत' शेखर
स्वतंत्रता दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
काकाको चप्पल (Uncle's Slippers)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुनो स्त्री
Rashmi Sanjay
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
शिक्षक दिवस पर गुरुजनों को शत् शत् नमन 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिसका प्रथम कर्तव्य है जनसेवा नाम है भुनेश्वर सिन्हा,युवा प्रेरणा...
Bramhastra sahityapedia
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
*भाई-दूज कह रहा पावन प्रसंग आज (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
** मेरे खुदा **
Swami Ganganiya
जानता है
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
#हे__प्रेम
Varun Singh Gautam
अपनों की खातिर कितनों से बैर मोल लिया है
कवि दीपक बवेजा
■ पैग़ाम
*प्रणय प्रभात*
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
Loading...