Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मत्तगयन्द सवैया

सुंदर पुष्प सजा तन-कंचन
केश -घटा बिखराय चली है।

अंजित नैन कटार बने
अधरों पर लाल लुभाय चली है।।

अंगहि चंदन गंध भरे
मद-मत्त गयंद लजाय चली है।

हाय! गयो हिय मोर सखे!
कटि जूँ गगरी छलकाय चली है।।

रचना-रामबली गुप्ता

1469 Views
You may also like:
तलाश
Dr. Rajeev Jain
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
गम आ मिले।
Taj Mohammad
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हवा के झोंको में जुल्फें बिखर जाती हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पहचान...
मनोज कर्ण
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
"सुकून"
Lohit Tamta
पिंजरबद्ध प्राणी की चीख
AMRESH KUMAR VERMA
और कितना धैर्य धरू
Anamika Singh
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
'' पथ विचलित हिंदी ''
Dr Meenu Poonia
हौसला
Mahendra Rai
पिता
Shankar J aanjna
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
✍️दिल ही बेईमान था✍️
"अशांत" शेखर
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
Loading...