Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 1 min read

मतलब की दुनिया

इस मतलब की
दुनिया से
अपनी जान छुड़ाओ और
अपने जीवन को सार्थक बनाने की
कोशिश करते
किसी काम में
दिलोजान से जुट जाओ
यह लोग कभी
न काम आये न
आयेंगे
बस अपने सिर पर
जब जब मुसीबत पड़ेगी तो
तुम्हें आवाज लगायेंगे
अपना अधिकार जतायेंगे
प्यार भरा दिल बस तभी
खोलकर दिखायेंगे
जब तुम हो मुसीबत में तो
सिर पर पैर रख कर भाग
जायेंगे
एक जोंक से चिपके रहेंगे
तुम्हारा समय एक दीमक से
चाटते रहेंगे
अपनी मानसिक स्थिति और
हालात सही नहीं है की
दुहाई देते हुए तुम्हें
भर भर गालियां भी देते रहेंगे
प्रताड़ित करेंगे
एक असमंजस के हिंडोले में
झूलाते रहेंगे
जब तक तुम इनके मन की
करोगे
तब तक ठीक
जिस दिन सोचा तनिक भी
खुद के बारे में तो
भर भर तुम्हें मार लगायेंगे
ऐसे लोगों से एक उचित दूरी भली
तुम्हारे अच्छे समय में
न यह तुम्हें काम करने देंगे और
बुरे समय में
हाथ छुड़ाकर भाग जायेंगे।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

1 Like · 1 Comment · 415 Views
You may also like:
हर सिम्त यहाँ...
अश्क चिरैयाकोटी
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
परिणय
मनोज कर्ण
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
जाने कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
इन्साफ
Alok Saxena
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️बुलडोझर✍️
'अशांत' शेखर
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
सिर्फ तेरी वजह से
gurudeenverma198
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पत्र की स्मृति में
Rashmi Sanjay
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...