Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 24, 2016 · 1 min read

मज़दूर हूँ ……

मज़दूर हूँ …….
और मज़बूर भी
वो दिहाडी और
वो कमाई …….
मेरे खाने तक सीमित
और …….
कुछ बचाने तक मात्र
ताकि कर सकूँ
दवा पानी बच्चों की
गर … सर्द ज़ुकाम
हो जाये कभी
सच कहूँ …. तो
जि़दगी-ए-जिंदगी को मैंने
आत्मसंतोष को मैंने
जीवन का लक्ष्य बनाया
चिथडे-फटे कपडो में
सूट पहनने का सुख पाया
इक जून की रोटी जब
होती नहीं नसीब
किसी रोज़ …
करके उधार सारा …….
करता हूँ
बच्चों का गुज़ारा
न दुनिया …….
न रिश्तेदार कोई
न ही दोस्तर वेगरह
इसीलिए कहता हूँ
मज़दूर हूँ…….
और मज़बूर भी ।।

1 Like · 445 Views
You may also like:
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...