Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मजबूर ! मजदूर

उतरती है बंदिशें मैं ही पिसता हूं
मजबूर ! मजदूर
उस सीमा से आता हूं ।
टूटकर बिखरता नहीं
नीड़ को लौटता तिनकों को जोड़ने ,
उम्मीद का दीप जलाएं
मेरी कोई आवाज नहीं
हां ! उनकी आवाज़ में
मैं अवश्य रहता हूं ।
वाणी और कागज में
उत्थान चल रहा है ,
सदियों से मेला चल रहा है
आदमी ! आदमी को छल रहा है ,
धर्म को पोटली में बांध बेचा जाता हूं
खिलौने के मानिंद
खिलौना से मन बहल जाता है
पेट नहीं भरता ।
ठगा देखता हूं , शून्य की ओर
कोई गांधी आए आवाज बनकर।
————————————
रचनाकार -शेख जाफर खान

9 Likes · 10 Comments · 346 Views
You may also like:
“ पगडंडी का बालक ”
DESH RAJ
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
हवाई जहाज
Buddha Prakash
✍️सारे अपने है✍️
'अशांत' शेखर
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
ग़ज़ल
kamal purohit
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
pradeep nagarwal
मन ही बंधन - मन ही मोक्ष
Rj Anand Prajapati
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेमकसद जिंदगी।
Taj Mohammad
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️दम-भर ✍️
'अशांत' शेखर
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
# मां ...
Chinta netam " मन "
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (गीतिका)*
Ravi Prakash
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
Loading...