Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 26, 2022 · 1 min read

#मजबूरी

ज़ाना क्यों ना समझी
तूने मेरी मजबूरी
मेरे अलावा था
सब तेरे लिए जरूरी
हां एक दिन करता जरूर
तेरी सारी wishes पूरी
पर तूने ना समझा
मेरा साथ जरूरी
भले मैं तुझपे कितना भी करू गुस्सा
पर तू ही तो थी ना मेरी कमज़ोरी
भले ‘ जिन्दगी ‘ में मिले सब
पर ‘ चाहत ‘ तो रह गयी ना अधूरी
यदि तू समझता ना मेरी मजबूरी
तो होती तेरी – मेरी life पूरी !

” अब तेरे छोड़ जाने के बाद
मेरा दिल तेरी यादों में खो रहा हैं
किसने कहा मैं अकेला हू पगली
देख तो सही – ये ‘आसमान’ भी मेरे साथ रो रहा हैं ”

~ D.k math

97 Views
You may also like:
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
सियासी क़ैदी
Shekhar Chandra Mitra
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
खुदा के आलावा।
Taj Mohammad
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
मुस्ताकिल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर बच्चा कलाकार होता है।
लक्ष्मी सिंह
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
✍️KITCHEN✍️
'अशांत' शेखर
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
*"पिता"*
Shashi kala vyas
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
मै तैयार हूँ
Anamika Singh
दर्द से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
धूप में साया।
Taj Mohammad
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
'अशांत' शेखर
*खाट बिछाई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️✍️नींद✍️✍️
'अशांत' शेखर
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
धर्म
Vijaykumar Gundal
माई री [भाग२]
Anamika Singh
✍️कोई मसिहाँ चाहिए..✍️
'अशांत' शेखर
कारगिल फतह का २३वां वर्ष
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...