Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 4, 2022 · 1 min read

मजदूर की रोटी

मजदूर करते हैं मजदूरी
एक कनिष्ठ सी दिलासा
अपने मानस में बांध के
आज की रोटी मिल जाए
हमें किसी भी आचरण से
इसके लिए वो आतप में
पसीने बहाते रहते हैं सदा
मजदूरी ही है इनकी रोटी ।

कभी-कभी किसी सबब से
न कर पाते हैं कृत्य, करम
चौमासा , कड़ी घाम आदि
इन सब प्रयोजनों से तो
वो और उनके नन्हें लाल
संग-संग उनकी कामनी को
क्षुधालु कुक्ष ही सोना पड़ता
मजदूरी ही है इनकी रोटी ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

48 Views
You may also like:
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
मैं तुमको याद आऊंगा।
Taj Mohammad
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
*राम राम जय सीता राम*
Ravi Prakash
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
अपना दिल
Dr fauzia Naseem shad
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
✍️बहन भाई की सलामती चाहती है✍️
'अशांत' शेखर
आजादी का दौर
Seema 'Tu haina'
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
शहीदों के नाम
Sahil
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...