Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2021 · 1 min read

मजदूर की बरसात

ओ , मेघा तू ठहर के बरस
मजा तुझको भी लेनी है
मजा मुझको भी लेनी है
कहीं धूप , कहीं छांव
कहीं तुझे बरसना
बस देख के बरस
सयाम से बरस ।

इंद्र का मिला हैं, फरमान तुझे
ना सुनेगा मेरा ना ही अपना ।

शबनम से परहेज मुझे
मेह सुनकर डर गया ।
रहता मैं खुले मेघ में
रात काटने से डर गया।
आठ पहर तप करूं
तब लू रोटी का आनंद।

कुंहासा को तो मेघ समझ जाता
सावन – भादों से हूं ,निशब्द ।

ओ मेघा तू देख के आना
संयम, अदब से बरसना
टपक -टपक कर बरसना
सागर में मिल जाना
अपने में ही रमजाना ।

गरज, अकड़ के बरस
जिद गुस्सा को धो डाल
खौफ किसका खाते हो
लहराते हरियाली से पूछ
जोर से गिर, सागर में मिल
भू से उठा था,भूमि में गिरेगा।

तुझको तो मौसिकी का इंतजार
मुझे तो है तेरे फटने का ।।

गौतम साव

4 Likes · 8 Comments · 367 Views
You may also like:
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तेरा ज़िक्र।
Taj Mohammad
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ममता
Rashmi Sanjay
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
मेरी कलम से किस किस की लिखूँ मैं कुर्बानी।
PRATIK JANGID
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr.Alpa Amin
एहसास में बे'एहसास की
Dr fauzia Naseem shad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
धूप में साया।
Taj Mohammad
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
गज़लें
AJAY PRASAD
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐसे ना करें कुर्बानी हम
gurudeenverma198
💐दुर्गुणं-दुराचार: व्यसनं आदि दुष्ट: व्यक्ति: सदृश:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️मुकद्दर आजमाते है✍️
'अशांत' शेखर
रक्षाबंधन
Utsav Kumar Aarya
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
✍️मंजूर-ए-खुदा✍️
'अशांत' शेखर
✍️मेरा हमशक्ल है ✍️
'अशांत' शेखर
यह दिल
Anamika Singh
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
Loading...