Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 11, 2022 · 1 min read

मजदूर की अंतर्व्यथा

मैं उस बेबस लाचार मजदूर को देखता हूं,
जो रोज सुबह सवेरे चौराहे पर इकट्ठी दिहाड़ी मजदूरों की भीड़ का हिस्सा बनता है,
अपनी बारी आने का इंतज़ार करता है ,
उसके चेहरे पर अनिश्चितता की चिंता के भाव उसकी अंतर्वेदना प्रकट करते हैं,
दिहाड़ी न मिलने पर व्यवस्था के विकट प्रश्न उसे चिंतित करते है ,
कभी- कभी सोचता है, क्या-क्या सपने संजोकर वह शहर आया था ,
शहर आकर हकीकत से दो चार होकर वह अपनी करनी पर पछताया था,
सोचा था शहर में गांव से अच्छी मजदूरी मिलेगी,
तब उसकी जिंदगी बीवी बच्चों के साथ हँसी -खुशी गुज़रेगी,
अब वह समझ गया था , कि दूर के ढोल सुहावने होते हैं,
लोग बातों में आकर नाहक शहर की तरफ भागते हैं,
गांव में खुद की पहचान को छोड़कर शहर की भीड़ का हिस्सा बनते हैं,
गांव की मजदूरी में दो जून रोटी तो हासिल हो जाती थी, कभी भूखे पेट तो नहीं सोते थे ,
शहर में तो आए दिन फाके पड़ जाते हैं ,
दो रोटी के भी लाले पड़ते हैं ,
शहर में तो आए दिन काम की तलाश में
भटकते फिरते हैं ,
गांव में तो काम होने की सूचना लोग घर पर
ही भेज देते है,
शहर में तो लोग अपने-अपने सुख की चिंता करते हैं,
गांव में कम से कम एक दूसरे के दुःख को
तो लोग समझते हैं,

2 Likes · 4 Comments · 82 Views
You may also like:
हमारी जां।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किताब।
Amber Srivastava
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
सच एक दिन
gurudeenverma198
हौसला
Mahendra Rai
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाबू जी
Anoop Sonsi
पापा
Anamika Singh
इश्क
goutam shaw
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐भगवत्कृपा सर्वेषु सम्यक् रूपेण वर्षति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क है यही।
Taj Mohammad
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
कविराज
Buddha Prakash
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
Loading...