Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2022 · 1 min read

मजदूर- ए- औरत

आजकल के इस दौड़ में
औरते भी करती मजदूरी
मजदूर मर्दों की विभांति
जाके देखिये कई गांवों में
कई महिलाओं के वल्लभ
न है या अस्वस्थ, मद्यपी हैं
वह अपने और स्वजन हेतु
करते रहते हैं मजदूरी यहां।

ऐसी महिलाएं क्या करेगी ?
मजदूरी ही न करेगी अंततः
और क्या कर सकती है ?
क्या यह एसो आरामों में
रह सकती इस भूमि पर ?
मजदूरी ही रोटी है इनकी
यही हाल मजदूर नारी की ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

65 Views
You may also like:
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा
सेजल गोस्वामी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
आस
लक्ष्मी सिंह
अनामिका के विचार
Anamika Singh
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
रफ्तार
Anamika Singh
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
Loading...