Sep 5, 2016 · 1 min read

मगर वो लोग अभी तक आपने देखे नहीं होंगे

ज़मीं पर जब कहीं भी लोग दिल वाले नहीं होंगे
फ़लक पर चाँद सूरज कहकशाँ तारे नहीं होंगे
………………
बताऊँ मैं तुम्हें क्यूँ आज कल ग़ज़लें नहीं होतीं
दिलों में फूल होंगे पाँव में कांटे नही होंगे
……………..
किसी से दिल लगा कर इस क़दर तुम मुस्कुराते हो
ये कैसे मान बैठे हो कि अब चर्चे नहीं होंगे
……………..
वही जिनको मेरे दिल के समन्दर से गुज़रना है
वो सपने झील सी आँखों में तो उतरे नहीं होंगे
………………
जिन्हें बस देखते ही प्यार हो जाता है सालिब जी
मगर वो लोग अभी तक आपने देखे नहीं होंगे

2 Comments · 140 Views
You may also like:
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H.
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां
हरीश सुवासिया
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
Loading...