Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2021 · 1 min read

मकसद

मकसद

इधर देखता हूं तुम दिखती हो मुझको
उधर देखता हूं तुम दिखती हो मुझको,
कहने को दुनिया में चेहरे हैं लाखों
हर चेहरे में बस तुम्हीं दिखती हो मुझको।

तुम्हारे मिलने से पहले मैं कुछ भी नही था
पहचान कुछ नही थी अस्तित्व कुछ नही था,
कहने को दुनिया में रहता था मैं भी
रहने का लेकिन कोई मकसद नही था।

संजय श्रीवास्तव
बालाघाट (मध्यप्रदेश)

1 Comment · 240 Views
You may also like:
अमृत महोत्सव मनायेंगे
नूरफातिमा खातून नूरी
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिन्दगी का सबक
Anamika Singh
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
*विश्वरूप दिखलाओ (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
गुलफाम बन गए हैं।
Taj Mohammad
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD KUMAR CHAUHAN
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
थक चुकी ये ज़िन्दगी
Shivkumar Bilagrami
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
क्यों मार दिया,सिद्दू मूसावाले को
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
अब मैं बहुत खुश हूँ
gurudeenverma198
Loading...